परचा गैलेरी :
 
 
17. अजमाल जी को परचा

रामदेव जी ने जब सभी गाँव वालों को इकठ्ठा करके अपनी समाधी लेने की सूचना दी तब सभी गाँव वालों की आँखों में आंसू आ गये और सभी रुआंसे गले से बाबा को इतनी छोटी अवस्था में समाधी लेने से मना करने लगे और समझाईस करने लगे । बाबा ने सभी के प्यार को सहर्ष स्वीकार करते हुए कहा कि- "हे प्यारे बंधुओं! मेरा अवतरण इस संसार में किसी कारणवश हुआ था, जो की मेने पूर्ण कर दिया, और अब मेरा यहाँ रुकने का कोई औचित्य नहीं हैं ।" इतना कहने के बाद वे सभी ग्रामवासीयों को अपने जाने के बाद भी सत्य वचन और धर्म के मार्ग पर चलने का आग्रह करने लगे ।

 

रामदेव जी के समाधी लेने का समाचार सुनकर पिता अजमल शीघ्र ही रामसरोवर तालाब पहुंचे । उन्होंने अपने पुत्र रामदेव को गले लगा लिया और न छोड़कर जाने कि विनती करने लगे। रामदेव जी ने अजमाल जी को शांत करवाते हुए कहा कि "हे राजन! में तो आपका आज्ञाकारी सेवक हूँ आपको दिए गये वचनानुसार मेने अपना वादा पूर्ण किया और आपके महल में आपके पुत्र के रूप में अवतार लिया, परन्तु अब मेरा कार्य पूर्ण हो गया हैं, और अब मुझ आज्ञाकारी पुत्र को जाने की आज्ञा दीजिये ।" इतना कहकर रामदेव जी ने अजमाल जी को एक बार पुनः }kfjdk/kh’k के दर्शन दिए और समाधी में लीं हो गये ।

18. डाली बाई को परचा

बाबा ने समाधी के वक्त अपने सभी ग्रामीणों को यह समाचार दिए कि अब मेरे जाने का वक्त आ गया हैं, आप सभी को मेरा राम राम । बाबा ने जाते-जाते अपने ग्रामीणों को कहा कि इस युग में न तो कोई ऊँचा हैं, और न ही कोई नीचा, सभी जन एक समान हैं, और सभी

को सहर्ष स्वीकार करते हुए कहा कि- "हे जन ईश्वर के प्रतीक हैं अतः उन्हें एक समान ही समझना और उनमे किसी भी प्रकार का भेद न करना । बाबा को रोकने के सभी प्रयास विफल होने पर सभी ग्रामीणों ने डाली बाई को इस दुःखद समाचार के बारे में जाकर बताया कि वे ही कुछ करे । डाली बाई समाचार सुनकर शीघ्र ही नंगे पाँव रामसरोवर की तरफ चली आई । डाली बाई ने आते ही रामदेव जी से कहा कि "हे प्रभु ! आप गलत समाधी को अपना बता रहे हो । ये समाधी तो मेरी हैं ।" रामदेव जी ने पूछा "बहिन, तुम कैसे कह सकती हो कि यह समाधी तुम्हारी हैं?" इस पर डाली बाई ने कहा कि अगर इस जगह को खोदने पर "आटी, डोरा एवं कांग्सी" निकलेगी तो यह समाधी मेरी होगी । ग्रामीणों द्वारा समाधी को खोदने पर वे ही वस्तुएं जो कि डाली बाई ने बताई थी उस समाधी से प्राप्त हुई तो रामदेव जी को ज्ञात हुआ कि सत्य ही यह समाधी तो डाली बाई की हैं । डाली बाई ने अपनी सत्यता दर्शाकर प्रभु से कहा कि "हे प्रभु ! अभी तो आपको इस सृष्टि में कई कार्य करने हैं, और आप हमसे विदा ले रहे हो?"

 

रामदेव जी ने अपनी मुंहबोली बहिन डालीबाई को अपने इस सृष्टि में आने का कारण बताते हुए कहा कि "मेरा अब इस सृष्टि में कोई कार्य बाकी नहीं रहा हैं, में भले ही दैहिक रूप से इस सृष्टि को छोड़कर जा रहा हूँ, परन्तु मेरे भक्त के एक बुलावे पर में उसकी सहायता के लिए हर वक्त हाजिर रहूँगा ।"

 

रामदेव जी और कहने लगे कि "हे डाली ! मैं तुम्हारी प्रभु भक्ति से बहुत प्रसन्न हुआ हूँ और आज के बाद तुम्हारी जाति के सभी जन मेरे भजन गायेंगे और 'रिखिया' कहलायेंगे." इतना कहकररामदेव जी ने डालीबाई को विष्णुरूप के दर्शन दिए, जिसे देख डाली बाई धन्य हो गयी, और रामदेव जी से पहले ही समाधी में लीन हो गयी.

 

<< Previous

Next >>

Ramdev Darshan, ramdevra, ramdevra runicha, Baba Ramdevji, Ramshah Pir, ramdevra mandir, ramdevra bhajan, songs, hotels, temple, maps, ramdevra jodhpur, temple mandir of ramdevra, Tanwar Rajput, Hindu Muslim, Rajasthani melas,fairs, festivals , ramdevra, jodhpur, rajasthan, india
?
Tour & Travels
टूर & ट्रेवल्स
Hotel Booking
कहा ठहरे
Ramdev Prasadam
रामदेव  प्रसादम

Home | History | Timinings | Calender | How To Reach | Contact Us


Copyright © 2010 www.ramdevdarshan.com All Rights Reserved.

Design by : Er. Somendra Harsh & Developed by : Cyber Ash Softech Pvt. Ltd. & Promoted by : e-Ash Solutions